संगठन-सरकार से बाहर पायलट राजस्थान की सियासी जमीन पर अपनी पकड़ कमजोर नहीं पड़ने दे रहे

Kumar Deepak

09/09/2020 9:06 PM Total Views: 1935

नई दिल्ली। राजस्थान कांग्रेस के अंदरूनी संग्राम पर विराम लगने के बाद अब भविष्य में पार्टी का सियासी पताका थामने की पेशबंदी का दौर शुरू हो गया है। सूबे की सरकार और संगठन से बाहर होने के बावजूद सचिन पायलट राजस्थान की सियासी जमीन पर अपनी पकड़ कमजोर नहीं पड़ने दे रहे हैं। भविष्य की सियासत पर दांव लगाने की रणनीति के तहत दो दिन पूर्व अपने 43वें जन्म दिन को पायलट ने सूबे की राजनीति में अपनी पकड़ कायम रखने का संदेश देने का अवसर बनाया।

Advertisement Image

हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें : क्लिक करें

पायलट के जन्म दिन को सियासी मौका बनाने के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन हुआयहाँ क्लिक करके हमारे व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

जन्म दिन को सियासी मौका बनाने के लिए पायलट के समर्थकों ने पूरे राजस्थान के करीब 190 विधानसभा क्षेत्रों के साथ ब्लॉक स्तर पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया। साथ ही इसको कामयाब बनाने के लिए पायलट समर्थक सूबे के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने 45 हजार यूनिट रक्तदान कर इस आयोजन को प्रदेश के रिकार्ड बुक में दर्ज करा दिया।

Advertisement Image

पायलट ने गहलोत, कांग्रेस नेतृत्व को अपनी राजनीतिक क्षमता और प्रभाव की धमक की दिखाई झलक

जाहिर तौर पर इस आयोजन के जरिये पायलट ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही नहीं कांग्रेस नेतृत्व को अपनी राजनीतिक क्षमता और प्रभाव की धमक बची रहने की झलक दिखाई। बगावत प्रकरण के दौरान उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दोनों पद गंवाने के बाद पायलट की अभी न सरकार में सीधी कोई दखल है और न ही संगठन में उनका प्रभाव।

Advertisement Image

जन्म दिन के मौके पर राजस्थान कांग्रेस में कायम आधार की दिखाई झलक 

राजनीति में इस मौजूदा स्थिति को उनकी कमजोरी न मान लिया जाए इसके मद्देनजर ही पायलट ने सूबे के सभी जिलों और विधानसभा क्षेत्रों में अपने सियासी आधार के कायम रहने का संदेश देने से गुरेज नहीं किया। कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति के लिहाज से पायलट ने अपनी यह ताकत उस समय दिखाई है, जब बगावत प्रकरण के दौरान उनकी जगह गहलोत समर्थक जाट नेता गोविंद सिंह डोटासारा को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जा चुका है। इतना ही नहीं प्रदेश संगठन से पायलट के तमाम समर्थकों की भी विदाई हो चुकी है। हालांकि यह अलग बात है कि जन्म दिन को सियासी मौका बनाने का पायलट का यह दांव किसी असंतोष से नहीं जुड़ा है।

पायलट की घर वापसी में प्रियंका गांधी वाड्रा की सबसे अहम भूमिका रही थी

कांग्रेस हाईकमान ने बगावत प्रकरण खत्म करने के दौरान ही सचिन पायलट और उनके समर्थकों की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से शिकायतों पर गौर कर समाधान निकालने का भरोसा दिया था। अविनाश पांडेय को राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी महासचिव पद से हटाने की पायलट की मांग हाईकमान पहले ही मान चुका है। गहलोत सरकार के विश्वास मत हासिल करने के तत्काल बाद ही पांडेय ने इस्तीफा दे दिया था और उनकी जगह अजय माकन को राजस्थान कांग्रेस का प्रभारी महासचिव बनाया जा चुका है। माकन पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के निकट माने जाते हैं। वैसे सचिन पायलट की राहुल और गांधी परिवार से निकटता किसी से छिपी नहीं है। बगावत प्रकरण के दौरान पायलट की घर वापसी में प्रियंका गांधी वाड्रा की सबसे अहम भूमिका रही थी।

ये ख़बर आपने पढ़ी देश के तेजी से बढ़ते सबसे लोकप्रिय हिंदी न्यूज़ प्लेटफ़ॉर्म पर
,आज तेजी से बदलते परिवेश में जहां हर क्षेत्र का डिजिटलीकरण हो रहा है, ऐसे में  हमारा यह नएवस पोर्टल सटीक समाचार और तथ्यात्मक रिपोर्ट्स लेकर आधुनिक तकनीक से लैस अपने डिजिटल प्लेटफार्म पर प्रस्तुत है। अपने निडर, निष्पक्ष, सत्य और सटीक लेखनी के साथ मैं प्रधान संपादक कुमार दीपक और मेरे सहयोगी अब 24x7 आप तक पूरे देश विदेश की खबरों को पहुंचाने के लिए कटिबद्ध हैं।


जवाब जरूर दे 

क्या आप मानते हैं कि कुछ संगठन अपने फायदे के लिए बंद आयोजित कर देश का नुकसान करते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

WhatsApp
Close
Website Design By Boot Alpha +91 84482 65129